नो कॉस्ट ईएमआई क्या है? No Cost EMI

No Cost EMI | No Cost EMI Mobile | No cost EMI Flipkart | What is No Cost EMI | No cost EMI Meaning in Hindi |

आप जूते खरीदना चाहते हैं या आपको एलसीडी टीवी खरीदना है या आपको एक फ्रिज खरीदना है या आपको घर से जुड़ी कोई जरूरी चीज खरीदनी है, आपको दुकान पर जाने की बिल्कुल भी जरूरत नहीं है क्योंकि फ्लिपकार्ट जैसी शॉपिंग वेबसाइट, अमेज़न आपको घर बैठे देगा। अलग-अलग तरह का सामान खरीदने का मौका देता है और सामानों पर अलग-अलग तरह के शानदार ऑफर भी देता है, इसी ऑफर में नो कॉस्ट ईएमआई का भी ऑफर है, जिसके बारे में आपने किसी शॉपिंग वेबसाइट पर शॉपिंग करते समय जरूर देखा होगा। किया होता तो दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम जानेंगे कि NO COST EMI क्या है ? – 

अधिकतर जगह ख़रीदारी करते समय आपको  NO COST EMI का विकल्प मिलता है, लेकिन इसके बारे में जानकारी के अभाव में आप इस विकल्प का उपयोग नहीं कर पाते हैं। इसलिए आज हमने नो कॉस्ट ईएमआई के बारे में पूरी जानकारी देने के लिए खास आर्टिकल लिखा है, जिससे आप जान सकें कि नो कॉस्ट ईएमआई क्या है? इसका क्या अर्थ है?

NO COST EMI kya hai

अगर आपने कहीं ईएमआई पर कोई उत्पाद खरीदा है तो उस पर आपको प्रोसेसिंग फीस देनी होगी, साथ ही कुछ प्रतिशत ब्याज भी देना होगा, जिसे ईएमआई कहते हैं, जिसका हिंदी में मतलब किस्त होता है।

बात करें अगर NO COST EMI की तो जब आप नो कॉस्ट ईएमआई पर कोई आइटम खरीदते हैं तो ही आपको माल की कीमत चुकानी पड़ती है और सामान की किस्त के अलावा न तो प्रोसेसिंग फीस देनी होती है और न ही कोई अन्य प्रकार के शुल्क का भुगतान करना होगा। इसलिए इसे नो कॉस्ट ईएमआई कहा जाता है।

किसी भी तरह का सामान किस्त पर खरीदने के लिए आपके पास क्रेडिट कार्ड होना जरूरी है। आपको बता दें कि ऐसी कई वेबसाइट हैं जो ऑनलाइन शॉपिंग करती हैं।

अगर आप वहां से शॉपिंग करते हैं तो कुछ शॉपिंग वेबसाइट आपको कुछ प्रोडक्ट्स परNO COST EMI ऑफर करती हैं क्योंकि उन्होंने किसी बैंक के साथ पार्टनरशिप की है और उसी बैंक से पार्टनरशिप करने के बाद वे नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान खरीदने का ऑफर देते हैं।

देखा जाए तो ऐसे ऑफर्स सबसे ज्यादा एचडीएफसी बैंक और एक्सिस बैंक के क्रेडिट कार्ड पर मिल रहे हैं। Amazon और Flipkart हमारे भारत में दो ऐसी शॉपिंग वेबसाइट हैं, जिन पर सबसे ज्यादा नो कॉस्ट EMI पर सामान खरीदने का मौका मिलता है।

उदाहरण के तौर पर अगर किसी प्रोडक्ट की कीमत 10000 के आसपास है और आपको उस प्रोडक्ट पर नो कॉस्ट ईएमआई का ऑफर मिल रहा है तो आप तीन से चार किश्तों में कुल 10000 का भुगतान कर सकते हैं। अगर आप 10000 का भुगतान तीन किश्तों में करेंगे तो आपको 3333 एक महीने में और 10000 चार किश्तों में देने होंगे तो आपको 2500 एक महीने में चुकाने होंगे।

जब सामान्य ईएमआई की बात आती है, तो आप हर महीने जो ईएमआई का भुगतान करते हैं, उसमें भी आपको थोड़ा सा ब्याज लगाना पड़ता है। उदाहरण के तौर पर अगर आपने 10000 का कोई आइटम खरीदा है तो सामान्य ईएमआई में उस आइटम की कीमत 11000 से 12000 के आसपास होगी।

इस प्रकार, सामान्य ईएमआई पर चार्ज किए गए सामानों में प्रसंस्करण शुल्क और ब्याज के अलावा माल की लागत शामिल होती है। इसलिए जितना आपने अपने सामान के लिए लिया है उससे थोड़ा अधिक पैसा देना होगा।

NO COST EMI पर अगर आप 10000 में कोई सामान लेते हैं तो उसके लिए आपको सिर्फ 10000 देने होंगे और अगर आप नॉर्मल ईएमआई पर कोई प्रोडक्ट लेते हैं तो आपको उस आइटम की ईएमआई ब्याज और प्रोसेसिंग फीस के साथ चुकानी होगी। . इस तरह 10000 के सामान की कीमत आपको 11000 से 12000 के आसपास होती है।

No Cost EMI Meaning

जब आप नो कॉस्ट ईएमआई के तहत कोई उत्पाद खरीदते हैं, तो आपको केवल मासिक किस्तों के रूप में माल की लागत का भुगतान करना होता है।

माल की कीमत के अलावा आपको न तो कोई ब्याज देना पड़ता है और न ही किसी तरह का प्रोसेसिंग शुल्क देना पड़ता है। यानी अगर आपने 18000 का कोई सामान लिया है और उसकी कीमत भरने के लिए 6 महीने की किस्त भरने को कहा है तो आपको हर महीने ₹3000 देने होंगे। इस तरह आप 6 महीने में ₹18000 भर देंगे जिससे आपके लिए सामान फ्री हो जाएगा और सामने वाले को उसका पैसा भी मिल जाएगा।

ईएमआई क्या है?

नॉर्मल ईएमआई नो कॉस्ट ईएमआई से थोड़ी अलग होती है। नो कॉस्ट ईएमआई में आपको केवल किस्तों के रूप में उत्पाद की लागत का भुगतान करना होता है, लेकिन यदि आप सामान्य ईएमआई पर कोई वस्तु खरीदते हैं, तो आपको उत्पाद की लागत का भुगतान करना होगा, साथ ही आपको भुगतान करना होगा प्रसंस्करण शुल्क और ब्याज। है।

उदाहरण के लिए, यदि आपने सामान्य ईएमआई पर कोई उत्पाद खरीदा है और उसकी कीमत लगभग 10000 है, तो आपको प्रसंस्करण शुल्क के साथ-साथ ब्याज भी देना होगा। इस तरह आप न केवल 10000 भरेंगे, बल्कि 1000 से 2000 तक अतिरिक्त भी भरेंगे।

अगर ब्याज दर ज्यादा है तो ज्यादा पैसा देना होगा। अधिकांश ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइटों पर आपको नो कॉस्ट ईएमआई मिलती है और आपको सामान्य ईएमआई के माध्यम से ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन भी सामान खरीदने की सुविधा मिलती है।

नो कॉस्ट ईएमआई कैसे काम करती है?

भारत में लोग ज्यादातर शॉपिंग करने के लिए Flipkart और Amazon जैसी शॉपिंग वेबसाइट का इस्तेमाल करते हैं। इन दोनों वेबसाइटों पर रोजाना लाखों उत्पाद खरीदे जाते हैं।

जब इन दोनों वेबसाइटों को शुरू किया गया था, तब उनके द्वारा नो कॉस्ट ईएमआई का विकल्प नहीं लाया गया था लेकिन बाद में अमेज़ॅन ने एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आरबीएल बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के साथ ग्राहक के लिए नो कॉस्ट ईएमआई का विकल्प पेश किया। जिससे जब ग्राहक इन वेबसाइटों से नो कॉस्ट ईएमआई पर उत्पाद खरीदता है तो कंपनी उसमें कुछ पैसे भी बैंक को देती है।

इस तरह से बैंक पैसे भी कमाता है साथ ही कंपनी पैसे भी कमाती है। आपको बता दें कि जब से ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट पर नो कॉस्ट ईएमआई का विकल्प आया है, तब से ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और जैसा कि आप जानते हैं कि ज्यादातर लोगों के पास डेबिट कार्ड है। कार्ड या क्रेडिट कार्ड उपलब्ध है।

ऐसे में वे नो कॉस्ट ईएमआई का भी पूरा फायदा उठा रहे हैं। इससे ग्राहक को भी फायदा हो रहा है और उसे बिना ब्याज या कोई प्रोसेसिंग फीस दिए घर बैठे अपनी पसंद का सामान लेने का मौका मिल रहा है.

नो कॉस्ट ईएमआई का क्या फायदा है?

NO COST EMI का मुख्य लाभ यह है कि ग्राहक को उत्पाद की पूरी लागत एक बार में नहीं चुकानी पड़ती है। वह आसानी से उत्पाद की पूरी लागत को कवर करने के लिए ईएमआई का सहारा ले सकता है और हर महीने किस्त के रूप में एक निश्चित राशि का भुगतान कर सकता है। इस तरह उसे घर बैठे सामान मिल जाता है साथ ही उस पर ज्यादा बोझ भी नहीं आता है।

इसके अलावा अगर कोई ग्राहक किसी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से नो कॉस्ट ईएमआई पर कोई उत्पाद खरीदता है तो उसे उत्पाद की कीमत पर कोई प्रोसेसिंग शुल्क या कोई अतिरिक्त ब्याज नहीं देना पड़ता है। अगर उसने 10000 का माल लिया है तो उसे किश्त के तौर पर 10000 ही देने होंगे।

NO COST EMI  पर लिए गए सामान की कीमत चुकाने के लिए 3 महीने से लेकर 6 महीने तक का समय दिया जाता है। इस तरह कोई भी आसानी से सामान खरीद सकता है और महीनों में किश्तों का भुगतान कर सकता है।

नो कॉस्ट ईएमआई के नुकसान  

यह आपको लिमिटेड प्रोडक्ट्स पर ही मिलता है। इसके अलावा कुछ कंपनियां ऐसी भी हैं जो पहले से ही उत्पाद की कीमत में ब्याज जोड़ती हैं। ज्यादातर आपको क्रेडिट कार्ड पर ही नो कॉस्ट ईएमआई का विकल्प मिलता है।

इसलिए कई लोग नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान नहीं ले पा रहे हैं। इसमें आपको कोई डिस्काउंट नहीं मिलता है. नो कॉस्ट ईएमआई पर सामान खरीदने के बाद आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट ब्लॉक हो जाती है।

नो कॉस्ट ईएमआई से जुड़ी जरूरी बातें

आपको बता दें कि अगर आप नो कॉस्ट ईएमआई का फायदा लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास किसी भी बैंक का क्रेडिट कार्ड होना चाहिए। आम तौर पर एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और आरबीएल बैंक पर नो कॉस्ट ईएमआई अधिक होती है।

नो कॉस्ट ईएमआई के जरिए आप कुछ चुनिंदा प्रोडक्ट ही खरीद सकते हैं। जैसे स्मार्टफोन, टीवी, वाशिंग मशीन, फ्रिज आदि। नो कॉस्ट ईएमआई के तहत आपको केवल उत्पाद की कीमत चुकानी होती है और न ही कोई ब्याज देना होता है और न ही कोई प्रोसेसिंग शुल्क देना होता है। तो आप बेझिझक नो कॉस्ट ईएमआई का लाभ उठा सकते हैं।

नो कॉस्ट ईएमआई पर कोई ब्याज देय नहीं है। इसलिए कुछ लोग अनावश्यक चीजें भी खरीद लेते हैं। आपको ऐसा करने से बचना चाहिए। नो कॉस्ट ईएमआई का विकल्प ज्यादातर ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइटों पर ही उपलब्ध है। ऑफलाइन में आपको सामान्य ईएमआई का विकल्प मिलता है।

नो कॉस्ट ईएमआई पर उत्पाद कैसे खरीदें?

जैसा कि आप जानते हैं कि नो कॉस्ट ईएमआई पर उत्पाद खरीदने का अधिकांश विकल्प केवल ऑनलाइन उपलब्ध है। इसलिए नो कॉस्ट ईएमआई पर प्रोडक्ट खरीदने के लिए आपको किसी भी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट पर जाकर उस प्रोडक्ट को सर्च करना होगा जिसे आप खरीदना चाहते हैं और नीचे देखें कि वो प्रोडक्ट नो कॉस्ट ईएमआई पर उपलब्ध है या नहीं।

यदि वह उत्पाद नो कॉस्ट ईएमआई पर उपलब्ध है, तो आपको भुगतान प्रणाली में नो कॉस्ट ईएमआई का चयन करना होगा और इसे अपने क्रेडिट कार्ड के माध्यम से भुगतान करना होगा। इसके बाद तय दिन पर आपका सामान आपके घर पहुंचा दिया जाएगा और फिर हर महीने आपको अपने क्रेडिट कार्ड से उत्पाद की ईएमआई का भुगतान करना होगा।

इस लेख में, आपने “नो कॉस्ट ईएमआई क्या है” और “सामान्य ईएमआई क्या है” के बारे में सीखा है? इसके अलावा आपने यह भी जाना कि “नो कॉस्ट ईएमआई” का क्या फायदा है।

अपेक्षित ईएमआई पार फोन कैसे ले? किस्तो पर मोबाइल/लैपटॉप कैसे ले? इस बारे में आपको पूरी जानकारी मिल गई होगी.

अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई सवाल है तो नीचे कमेंट करें। और अगर पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया पर भी शेयर करें।

यह भी पढ़े

Leave a Comment