बजरंग पुनिया का जीवन परिचय | Bajrang Punia Biography in Hindi

Bajrang Punia Biography – इस पोस्ट मे हम भारत के कुश्ती चैंपियन बजरंग पुनिया के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक में कुश्ती में कांस्य पदक जीता था। उन्हें यह मुकाम उनके बेहतरीन प्रदर्शन के कारण मिला है।

भारतीय पहलवान बजरंग पुनिया ने पुरुषों के 65 किग्रा वर्ग के फाइनल में कनाडा के लछलन मैकनीला को हराकर राष्ट्रमंडल खेल 2022 (Common Wealth Game 2022) में स्वर्ण पदक जीता। यह भारत के लिए बड़ी ही गर्व की बात है।

बजरंग पुनिया इस बार होने वाले विश्व कुश्ती चैम्पियन का अगुवाई कर रहे है। बजरंग पुनिया ने अब तक कई चैंपियनशिप मैच जीते हैं, इन मैचों में से उन्होंने एशियाई खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था, जिसे उन्होंने भारत के पूर्व प्रधान मंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी बाजपेयी को समर्पित किया था। इस लेख में आपको बजरंग पुनिया की जीवनी के बारे में विस्तृत जानकारी मिलेगी।

Bajrang Punia Biography (Education, Wife, Match, Family, Medal  )

बजरंग पुनिया के बारे में संक्षिप्त जानकारी

वास्तविक नामबजरंग पुनिया
ओलंपिक से नामबजरंग बली
जन्म26 फरवरी 1994
आयु28 वर्ष
जन्म स्थानखुदान गांव, झज्जर, हरियाणा
पिताबलवान सिंह पूनिया
माताओम प्यारी पूनिया
पेशाफ्रीस्टाइल पहलवान
प्रशिक्षकअमजरिया बेंटिनिटी

बजरंग पुनिया कौन हैं?

बजरंग पुनिया भारत के एक फ्रीस्टाइल पहलवान हैं, यानी कुश्ती के खेल के खिलाड़ी हैं। उन्होंने टोक्यो ओलंपिक में भाग लिया और अच्छे प्रदर्शन के साथ कांस्य पदक जीता।

कांस्य पदक जीतने के बाद, उन्हें भारत के माना पहलवानों की सूची में शामिल किया गया है। इससे पहले भी बजरंग पुनिया ने कई ऐसे मैच खेले, जिसमें उन्हें गोल्ड मेडल भी मिला। बजरंग पुनिया ने एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक प्राप्त किया और उन्होंने इस पदक को भारत के पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी बाजपेयी को समर्पित किया।

बजरंग पुनिया का जन्म और परिवार

बजरंग पूनिया का जन्म 26 फरवरी 1994 को भारत के हरियाणा के झज्जर के खुदान गांव में हिंदू धर्म के जाट समुदाय में हुआ था। बजरंग पूनिया के पिता का नाम बलवान सिंह पूनिया है, जो खुद पेशे से पहलवान हैं, जिसके कारण उन्हें कुश्ती का भी शौक हो गया और उन्होंने कुश्ती में अपना करियर चुना।

उनकी माता का नाम ओम प्यारी पुनिया है, जो पेशे से एक गृहिणी हैं। उनका एक भाई भी है जिसका नाम हरेंद्र पुनिया है, जो पेशे से पहलवान है।

बजरंग पुनिया शिक्षा

बजरंग पूनिया ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने जन्म स्थान झज्जर के खुदान गांव के एक स्कूल से प्राप्त की। प्रारंभिक शिक्षा पूरी करने के बाद उन्होंने महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई पूरी की।

उन्हें महज 7 साल की उम्र से ही कुश्ती खेलने का शौक हो गया था और उन्होंने कुश्ती खेलना भी शुरू कर दिया था। उन्होंने अपने पिता का सहयोग पाकर यह मुकाम हासिल किया और बाद में कुश्ती की कोचिंग में शामिल हो गए।

बजरंग पुनिया के शुरुआती कोच का नाम योगेश्वर दत्त है और इसके बाद उन्होंने अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतिभाओं को सीखने के लिए एक कोचिंग क्लास ज्वाइन की। वह जिस कोचिंग से जुड़े थे, वह उस कोचिंग के कोच अमजरिया बेंटिनिटी थे। बजरंग पुनिया ने उन्हीं से कुश्ती का यह खेल सीखा और पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाई।

यह भी पढ़ें

बजरंग पुनिया का निजी जीवन

बजरंग पूनिया ने 25 नवंबर 2020 को शादी की और उनकी पत्नी का नाम संगीता फोगाट है।

बजरंग पुनिया का करियर

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया कि बजरंग पुनिया को बचपन से ही कुश्ती खेलने का शौक था, जिसके चलते उन्होंने कुश्ती के क्षेत्र में अपना करियर चुना। बजरंग पुनिया ने एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप साल 2013 में में हिस्सा लिया था।

यह चैंपियनशिप उनके ही देश की राजधानी दिल्ली में हो रही थी। बजरंग पुनिया इस चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन के साथ सेमीफाइनल में पहुंचे थे। एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप में बजरंग पुनिया को सेमीफाइनल मैच में हार का सामना करना पड़ा और उन्होंने निराशाजनक वापसी की।

वर्ष 2013 में ही बजरंग पुनिया ने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप बुडापेस्ट (जो हंगरी में हो रही थी) में 60 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता था। इन सबके बाद साल 2014 में नेशनल बोर्ड गेम्स (जो स्कॉटलैंड में हुआ था) में बजरंग पुनिया ने 61 किग्रा वर्ग में गोल्ड मेडल जीता और ऐसा करके उन्होंने भारत के लिए एक इतिहास रच दिया।

इन सबके बाद उन्होंने 2017 में दक्षिण कोरिया में हुए एशियन गेम्स में फिर से गोल्ड मेडल अपने नाम किया। इसी के साथ उन्होंने साल में दिल्ली में हुई एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में एक बार फिर गोल्ड मेडल जीतकर पूरी दुनिया में अपनी पहचान बनाई। 2017 बजरंग पुनिया ने अपना स्वर्ण पदक भारत के पूर्व प्रधान मंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित किया।

इन सबके बाद बजरंग पुनिया ने फिर साल 2018 में हिस्सा लिया और इस मैच में उन्होंने फिर से गोल्ड मेडल अपने नाम किया. इन सबके बाद बजरंग पुनिया ने करीब 3 ब्रांच मेडल, 4 सिल्वर मेडल और 5 गोल्ड मेडल जीते हैं.

बजरंग पुनिया का टोक्यो ओलंपिक करियर

बजरंग पुनिया ने 2021 में हुए टोक्यो ओलंपिक में 65 किग्रा वर्ग में शुरू से ही शानदार प्रदर्शन किया था। बजरंग पुनिया ने टोक्यो ओलंपिक के इस मैच में खुद को क्वालीफाई किया और सेमीफाइनल के दौर में पहुंच गए।

लेकिन सेमीफाइनल दौर में उन्हें निराशाजनक हार का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीता, जिसमें उन्होंने 8-0 से जीत हासिल की। बजरंग पुनिया ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीतकर भारत को गौरवान्वित किया।

बजरंग पुनिया नेट वर्थ

बजरंग पूनिया टिकट कलेक्टर के तौर पर भी काम कर चुके हैं। टिकट कलेक्टर के रूप में उन्हें ₹35000 प्रति माह मिलते थे। बजरंग पुनिया की फिलहाल कुल संपत्ति ₹30 करोड़ तक है।

व्याख्या: यह संपत्ति मीडिया रिपोर्टों के अनुसार बताई गई है, हम इसकी सटीकता की पुष्टि नहीं करते हैं।

बजरंग पुनिया को मिला पुरस्कार

वर्षइनाम
2013रजत पदक
2015अर्जुन पुरस्कार
2015रजत पदक
2019राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार
2019पद्म श्री पुरस्कार
2022 स्वर्ण पदक

बजरंग पुनिया के बारे में रोचक तथ्य

  • बजरंग पुनिया को किसी भी प्रकार की कोई बुरी लत नहीं है।
  • उन्होंने एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप में प्राप्त स्वर्ण पदक पूर्व भारतीय प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित किया।
  • उन्हें कुश्ती के साथ-साथ बास्केटबॉल, फुटबॉल और रिवर राफ्टिंग करना पसंद है।
  • उन्हें चूरमा खाना बहुत पसंद है.
  • उनके पसंदीदा पहलवान कैप्टन चंद्रुप्त और योगेश्वर दत्त हैं।

यह भी पढ़ेंविनेश फोगाट का जीवन परिचय

Home Pageयहाँ क्लिक करें

Faq

Q.बजरंग पुनिया कौन हैं?

Ans – भारतीय पहलवान

Q. – बजरंग पुनिया की जाति क्या है?

Ans – जाट

Q. – बजरंग पूनिया की पत्नी कौन है?

Ans – बजरंग पुनिया ने 25 नवंबर 2020 को संगीता फोगट के साथ शादी की। संगीता फोगट एक जानी-मानी पहलवान हैं और गीता, बबीता और रितु फोगट की बहन हैं। उनके पिता का नाम महावीर फोगट है, जो द्रोणाचार्य पुरस्कार के प्राप्तकर्ता हैं।

Q. – बजरंग पुनिया को टोक्यो ओलंपिक में कौन सा पुरस्कार मिला है?

Ans – कांस्य पदक

Q बजरंग पुनिया का गाँव कहाँ है ?

Ans – बजरंग पूनिया गांव हरियाणा के झझर जिले में स्थित है।

Q बजरंग पुनिया कितने साल के हैं?

Ans – 28 वर्ष

Qबजरंग पुनिया की जाति और धर्म क्या है?

Ans – बजरंग पुनिया हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते हैं और एक जाट परिवार से ताल्लुक रखते हैं।

Q – बजरंग पुनिया के कोच कौन हैं?

Ans – अमजरिया बेंटिनिटी

2 thoughts on “बजरंग पुनिया का जीवन परिचय | Bajrang Punia Biography in Hindi”

Leave a Comment